Wednesday, July 6, 2016

संगीत :)

 
 
 
 
 
 
 
 

प्रकृति की हर एक व्यवस्थित इकाई स्वयं में एक मधुर संगीत है जिसे केवल मन से ही देखा और सुना जा सकता है| आँखे तो मात्र एक माध्यम है उसे देखता तो "मैं" ही हूँ :)

No comments:

Post a Comment

आपके टिप्पणियों का स्वागत है.