Wednesday, September 30, 2009

नारी और सृजनशीलता



अलख पुरूष जब किया विचारा
लख चौरासी धागा डारा
पञ्च तत्व की गुदरी बीनी
तीन गुणन की ठाढ़ी किन्ही
ता में जीव ब्रम्ह औ माया .....


(कबीर उपासना से संकलित)

Saturday, September 26, 2009

आदित्य


मैं ना आदित्य साहू हुँ ...क्या आप मेरी कहानी सुनोगे?
मेरा जन्म १० मार्च २००९ में होलिका दहन के दिन हुआ था।
मेरे मम्मी पापा उस क्षण बहुत खुश थे पर थोड़े देर में यह खुशी दुःख में बदल गयी। मैं रोया नहीं ना तो ऑक्सीज़न की कमी हो गयी।
और न मुझे मेनेंज़ाइटिस भी हो गया।
मुझे दुसरे हॉस्पिटल ले जाया गया।
मैं अपनी मम्मी से अलग आई.सी.यू.में था। मम्मी दुसरे हॉस्पिटल में और मैं दुसरे।
मुझे अपनी मम्मी की बहुत याद आती थी। नर्स मुझे जब कैन्डूला लगाती ना तो बहुत दर्द होता था। मेरे नाक में पाइप लगी थी , अब तो झटके भी आने लगे थे। किसी को भी मेरे बचने की उम्मीद नही थी सिवाए मेरे मम्मी के।
जब वह मुझसे मिलने आती तो ना मुझसे अपनी आखों से कहती -
"मेरा प्यारा बेटा, तू जल्दी से अच्छा हो जाएगा।"
पता है ? इसलिए मैं जल्दी से ठीक होने लगा। मैं करीब डेढ़ महीने हॉस्पिटल में रहा।
खूब सारी दवाईयाँ लेनी पड़ती थी खूब उल्टी भी हो जाती थी।
डिब्बा वाला दूध लेना पड़ता जो मुझे बिल्कुल पसंद नही आता था।
पर अब मैं गाय का दूध लेता हूँ रोज १ से डेढ़ लीटर पी जाता हूँ और ना नानी मुझको रोज एक सेब फल भी देने लगी है
अभी तो मैं ठीक हूँ किंतु कभी -कभी मुझे अभी भी झटके आते हैं तो मेरी मम्मी डर जाती हैं।
आप लोग ईश्वर से मेरे लिए प्रार्थना करिए ना की मैंजल्दी से अच्छा हो जाऊं .... और मेरी मम्मी से बोलिए की ज्यादा चिंता ना करें अपने स्वास्थ का ध्यान रखें।
और ना मुझे अपने पापा की बहुत याद आती है वे मुझसे बहुत दूर डेल्ही में रहते हैं उनको अपना कार्य छोड़ते नही बनता पर मुझसे बहुत प्यार करते हैं।

मै अभी वहां नही जा सकता क्योंकि मेरी तबियत अभी पूरी ठीक नहीं हुई।

पता है मै अपने पापा के लिए कौन सा गीत गाता हूँ ?

"सात समुन्दर पार से गुड़ियों के बाज्रार से अच्छी सी गुड़िया लाना,

गुड़िया चाहे न लाना, पर पापा जल्दी आ जाना"


I love you mom and dad.

Thursday, September 24, 2009

कृष्ण लीला

कुंवर जल लोचन भरि भरि लैत।

बालक बदन बिलोकि जसोदा कत रिस करति अचेत॥

छोरि कमर तें दुसह दांवरी डारि कठिन कर बैत।

कहि तोकों कैसे आवतु है सिसु पर तामस एत॥

मुख आंसू माखन के कनिका निरखि नैन सुख देत।

मनु ससि स्रवत सुधाकन मोती उडुगन अवलि समेत॥

सरबसु तौ न्यौछावरि कीजे सूर स्याम के हेत।

ना जानौं केहिं पुन्य प्रगट भये इहिं ब्रज-नंद निकेत॥१७॥



(सूरदास जी के पद से )
अर्थ
एक गोपी शायद वही जो उलाहना देने आयी थी कृष्ण को इस तरह बंधन में पड़ा देखयशोदा से कहती है अरी यशोदा तनिक कन्हैया की ओर देख तो।बच्चे की आंखेंडबडबा गयी हैं। क्यों इतना क्रोध कर रही है यह कठिन डोरी कुंबर की कमर से खोल दे और यह छड़ी फेंक दे यह पांच बरस का निरा बच्चा ही तो है। कहीं नन्हें-से बालक पर इतना क्रोध किया जाता है इस समय भी कुंवर कान्हा कैसा सुन्दर लगता है मुख पर आँसुं की बूंदें टपक रही हैं और माखन के कण भी इधर-उधर लगे हुए हैं। ऐसा लगता है जैसे तारां सहित चंद्रमा अमृत के कणों और मोतियों की वर्षा कर रहा हो। यह शोभा भी नेत्रों को आनन्द देती है। यशोदा यह वह मोहिनी मूरत है जिस पर सर्वश्व न्यौछावर कर देना चाहिए। न जाने पूर्व के किस पुण्य प्रताप से नन्द बाबा के घर में आकर इस सुन्दर बालक ने जन्म लिया है।

हरि बिन जियरा मोरा तरसे

























हरि बिन जियरा मोरा तरसे, सावन बरसै घना घोर।
रूम झूम नभ बादर आए,कहूँ दिसी बोले मोर।
रैन अँधेरी रिमझिम बरसै, डरपै जियरा मोर॥
बैठ रैन बिहे सोच में, तड़प तड़प हो भोर।।
पावस बित्यौ जात, श्याम अब आओ भवन बहोर॥
आओ श्याम उर सोच मिटाऔ, लागौं पैयां तोर।....
(खड़ी बोली लोकगीत से संकलित)

आज बिरज में होली है रे रसिया









आज बिरज में होली रे रसिया
होरी है रे रसिया, बरजोरी है रे रसिया। आज
बिरज में ....

इत तन श्याम सखा संग निकसे
उत वृषभान दुलारी है रे रसिया। आज बिरज में....

ब्रत गुलाल लाल भये बादर
केसर की पिचकारी है रे रसिया। आज बिरज में .....

बाजत बीन, मृदंग, झांझ डफली ,
गावत दे -दे - तारी रे रसिया। आज बिरज में ......

श्यामा श्याम मिल होली खेलें,
तन मन
धन बलिहारी रे रसिया,
आज बिरज में होली रे रसिया।

(बृजभाषा लोकगीत से संकलित कविता )