Wednesday, February 10, 2010

"बसंत आया धरती पर "




लाल, पीले, नीले और नारंगी
आभा बिखेरते हुए किया श्रृंगार, धरती का
मानो इन्द्रधनुष आया उतर धरती पर

हँसते मुस्कुराते तुम्हारी पंखुड़ियाँ
मानो स्वर्ग उतर आया ज़मी पर

मधुरस लेने आई कुछ सखियाँ
अब आई बारी परिश्रम की

बिरह के दिन ख़त्म हुए सखी
आई बहार धरती पर

महका दिया तुमने धरती को
बसंत आया धरती पर

13 comments:

  1. महका दिया तुमने धरती को
    बसंत आया धरती पर
    इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

    ReplyDelete
  2. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. इन सुन्दर चित्रों को कैद करने का श्रेय हमारे एक नन्हे से दोस्त " SONY CAMERA (Optical zoom 4x) को जाता है.
    :)

    ReplyDelete
  4. waah! bahut hi sundar chitr Roshni ji...aur haan apni tabiyat ka khyal rakheeyega.

    ReplyDelete
  5. So nice of you Alpna ji. Thank you so much.
    Now I feel better.

    ReplyDelete
  6. होली की हार्दिक शुभकामनाए इस आशा के साथ की ये होली सभी के जीवन में
    ख़ुशियों के ढेर सरे रंग भर दे ....!!

    ReplyDelete
  7. bahut hi sundar pushp khile h aap ke gulashan m :P :)

    ReplyDelete
  8. waah ji waah , shaandar chitro ke saath khoobsurat kavita bhi ...badhayi sweekar kare...

    aabhar aapka

    vijay

    pls read my new poem on my blog
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. Vijay ji, aadarniy Mridula ji,Neelima ji and Vijay kumar Sappatti ji aap sabhi ka bahut bahut shukriya ki aap hamare bagiya men aaye par ham aapko bata den yah photografs hamare jaroor hain par bagiya kisi aur ki hai.
    :)
    un foolon ne hamen kaha ki hamare bare me bhi kuch likh do sakhi, to hamne unhen bhi apne blogger rupi bagiya men sthan diya
    aur ab to ye hi blog ki shan ban gaii hai.
    Thank u so much my sweet flowers.
    And thank u so much God ki aapne itni pyari rachna ki hai.

    ReplyDelete

आपके टिप्पणियों का स्वागत है.