Sunday, November 15, 2009

मुझे भी खुश रहना है ...."

 
 
 
 



मुझे भी जीने दो

बादल हूँ बरसने दो

कलि हूँ खिलने दो

फूल हूँ महकने दो

रंग हूँ बिखरने दो



9 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. ख़ूबसूरत ख़यालों से
    SAJI SUNDER KAVITA

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद सुमन जी और संजय जी।
    यह तस्वीरें मैंने रायपुर के ऊर्जा पार्क में खिंची है।

    ReplyDelete
  4. अद्भुत चित्र हैं...एक से बढ़ कर एक...आपकी फोटोग्राफी काबिले तारीफ़ है...
    नीरज

    ReplyDelete
  5. नीरज जी शुक्रिया.

    ReplyDelete
  6. roshni ji aap ki kavita padh ke
    main bhi hamesh khush rahoonga

    ReplyDelete
  7. Hi Friend,

    Flowers!! they are just awesome, so let them always blossom, on their stems by the side of leaves, for when they are plucked, my heart grieves, let them spread their divine and vibrant and vivid colors, as it can't be bought in pounds or dollars!! well the poem and photographs are just superb! keep up the good work ma'm!!

    ReplyDelete
  8. नईम जी इतने सुन्दर comment के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete

आपके टिप्पणियों का स्वागत है.